Featured Posts

स्कूटी सवार छात्रा घायलस्कूटी सवार छात्रा घायल अमेठी:घर से सुबह विद्यालय पढ़ने जा रही स्कूटी सवार छात्रा को ट्रक ने टक्कर मार दी। जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गई। स्थानीय लोगों ने उसे सीएचसी में भर्ती कराया। वहीं ट्रक चालक ट्रक छोड़कर फरार हो गया है। वाहन पुलिस के कब्जे में है। प्रतापगढ़ जिले के सांगीपुर थानाक्षेत्र...

Read more

कांग्रेस की डूबती नैया के खेवनहार बनेंगे महराजकांग्रेस की डूबती नैया के खेवनहार बनेंगे महराज     रिपोर्ट-मेराज ख़ान अमेठी:कई दशक से उप्र की सियासत में वजूद तलाश रही कांग्रेस लोकसभा चुनाव में करारी मात के बाद अब मंथन के दौर में है। डगमगाती नैया भंवर में हिचकोले खा रही। ऐसे में कांग्रेस का अस्तित्व बचाने के साथ राज बरकरार रखने के लिए अब 'महाराज' पर दांव लगाने...

Read more

मानवता से बड़ा कोई धर्म नहीं है:कान्ती त्रिपाठी मानवता से बड़ा कोई धर्म नहीं है:कान्ती त्रिपाठी  अमेठी:मानव सेवा से बड़ी कोई सेवा नहीं है। गरीबों की सेवा ईश्वर की सबसे बड़ी पूजा है। उक्त उद्गार आकांक्षा समिति की अध्यक्ष एवं जिलाधिकारी श्री जगत राज की पत्नी श्रीमती कान्ती त्रिपाठी ने जगदीशपुर विकास खण्ड में गरीबों को कम्बल वितरित करते हुए व्यक्त किये।   श्रीमती...

Read more

नेहरू के गढ़ में गरीबी बनी अभिशापनेहरू के गढ़ में गरीबी बनी अभिशाप   रिपोर्ट-मेराज़ ख़ान (ब्यूरो चीफ अमेठी )   अमेठी: देश की वीवीआईपी संसदीय क्षेत्र अमेठी जिसे लोग नेहरू गांधी परिवार का गढ़ कहते है आज गरीबो के लिए महफूज़ नहीं रह गयी है, ऐसा हम नहीं कहते बल्कि थाना शिवरतनगंज के शंकर गाँव की रहने वाली एक विधवा बुजुर्ग महिला ख़ालिकुन निशाँ...

Read more

स्मृति और पार्रिकर भी अमेठी के गांव को लेंगे गोदस्मृति और पार्रिकर भी अमेठी के गांव को लेंगे गोद रिपोर्ट:मेराज़ खान अमेठी:कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को उनके ही गढ़ में घेरने की रणनीति के तहत केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी और रक्षामंत्री मनोहर पार्रिकर अमेठी के एक-एक गांव को गोद लेकर प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना के तहत विकसित करेंगे। हाल...

Read more

केजरीवाल के खिलाफ अमेठी कोर्ट का समनकेजरीवाल के खिलाफ अमेठी कोर्ट का समन रिपोर्ट:मेराज़ खान अमेठी: आम आदमी पार्टी संयोजक अरविंद केजरीवाल के खिलाफ अमेठी के दीवानी कोर्ट ने समन जारी किया है। उन्हें 13 अप्रैल 2015 को अदालत में हाजिर होने को कहा गया है। अरविंद केजरीवाल पर दो मई को चुनावी सभा में विवादित भाषण देने का आरोप है। मामले में निर्वाचन आयोग...

Read more

भाजपा में शामिल हुए अमेठी के राजकुमारभाजपा में शामिल हुए अमेठी के राजकुमार  रिपोर्ट:मेराज़ खान अमेठी : कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के गढ़ अमेठी में बीजेपी ने एक और सेंध लगा दी है। अमेठी राजघराने की जंग का फायदा उठाते हुए बीजेपी ने कांग्रेस के राज्यसभा सांसद संजय सिंह के बेटे अनंत विक्रम सिंह को पार्टी में शामिल कर लिया है। अनंत विक्रम ने कहा,...

Read more

काँग्रेसी राजघराने का भगवा राजकुमारकाँग्रेसी राजघराने का भगवा राजकुमार रिपोर्ट-मेराज़ ख़ान (9648070088) कहानी पुरानी है पर किरदार नए हैं। एक तरफ पिता होंगे तो दूसरी तरफ पुत्र। सियासत में ऐसा जमाने से होता आया है पर 1200 साल पुराने अमेठी राजघराने के लिहाज से सब कुछ नया है। (अमेठी राजमहल) पर अब तक कांग्रेस का तिरंगा लहराता रहा है लेकिन अब भाजपा का परचम लहराने...

Read more

स्कूटी सवार छात्रा घायल

0

Posted on : 07-02-2015 | By : alok | In : अमेठी, सुर्खियां

5758_ereds

अमेठी:घर से सुबह विद्यालय पढ़ने जा रही स्कूटी सवार छात्रा को ट्रक ने टक्कर मार दी। जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गई। स्थानीय लोगों ने उसे सीएचसी में भर्ती कराया। वहीं ट्रक चालक ट्रक छोड़कर फरार हो गया है। वाहन पुलिस के कब्जे में है।

प्रतापगढ़ जिले के सांगीपुर थानाक्षेत्र के कोठा नेवारियां गांव निवासी श्रेया सिंह पुत्री दिनेश सिंह अमेठी के आरआरपीजी कालेज में सुबह अपनी स्कूटी से पढ़ने जा रही थी। अचानक संग्रामपुर चौराहे के पास एक ट्रक ने स्कूटी में टक्कर मार दी। जिससे स्कूटी सवार छात्रा गंभीर रूप से घायल हो गई। आस-पास के लोगों ने घायल अवस्था में छात्रा को स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया। जहां पर घायल छात्रा का इलाज चल रहा है। वहीं वाहन चालक ट्रक छोड़ कर भाग गया। थानाध्यक्ष मनोज तिवारी ने बताया कि ट्रक को कब्जे में ले लिया गया है।

कांग्रेस की डूबती नैया के खेवनहार बनेंगे “महराज”

0

Posted on : 29-01-2015 | By : alok | In : अमेठी, सुर्खियां

29_07_2014-29SanjaySingh1

 

 

रिपोर्ट-मेराज ख़ान
अमेठी:कई दशक से उप्र की सियासत में वजूद तलाश रही कांग्रेस लोकसभा चुनाव में करारी मात के बाद अब मंथन के दौर में है। डगमगाती नैया भंवर में हिचकोले खा रही। ऐसे में कांग्रेस का अस्तित्व बचाने के साथ राज बरकरार रखने के लिए अब ‘महाराज’ पर दांव लगाने की तैयारी हो चुकी है। नेतृत्व के संकेत पर पुराने कांग्रेसी ताजपोशी का रोड मैप भी तैयार करने में जुट गए हैं। इसकी बानगी कांग्रेसी खेमों में साफ झलकने लगी है।

4431

महाराज यानि अमेठी राजघराने के मुखिया सांसद डॉ. संजय सिंह रायबरेली, अमेठी के साथ ही आसपास दो दर्जन से ज्यादा जिलों में तगड़ी पैठ के साथ ही पूरे प्रदेश में कट्टर समर्थकों का जुड़ाव रखते हैं। इन दिनों वह सूबे की खाक भी छान रहे हैं। कांग्रेस कमेटियों के पूर्व अध्यक्ष, पूर्व सांसद, पूर्व विधायक खुलेआम हर मंच से डॉ. संजय सिंह के नेतृत्व में कांग्रेस में जान पड़ने की हुंकार भर रहे हैं। जिले-जिले में आयोजित हो रहे मनरेगा के मंच में ग्रामीणों व किसानों के सम्मेलन तो शहर इकाइयों की जनसभाओं के जरिए वह अपनी पैठ बनाने में जुटे हैं।
राज्यसभा सांसद डॉ. संजय सिंह अस्सी के दशक में युवक कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष रहते हुए किसानों के आंदोलन में कई बार बड़े संघर्ष के गवाह भी बन चुके हैं। संजय गांधी व राजीव गांधी के करीबी रहे श्री सिंह केंद्र में मंत्री भी रहे हैं। बीच में कुछ दिनों कांग्रेस से खटास भी रही। बीते लोकसभा चुनाव में अमेठी से राहुल गांधी का रास्ता सुगम करने में मदद के लिए सोनिया गांधी ने उन्हें राज्यसभा भेजा, यहां से फिर करीबी बढ़ी। और अब एक बार फिर महराज को यूपी में कांग्रेस का खेवनहार बनाने की तयारी शुरू हो गयी है

नेहरू के गढ़ में गरीबी बनी अभिशाप

0

Posted on : 25-12-2014 | By : alok | In : अमेठी, तिलोई, सुर्खियां

 

रिपोर्ट-मेराज़ ख़ान (ब्यूरो चीफ अमेठी )

IMG-20141226-WA0102

 

अमेठी: देश की वीवीआईपी संसदीय क्षेत्र अमेठी जिसे लोग नेहरू गांधी परिवार का गढ़ कहते है आज गरीबो के लिए महफूज़ नहीं रह गयी है, ऐसा हम नहीं कहते बल्कि थाना शिवरतनगंज के शंकर गाँव की रहने वाली एक विधवा बुजुर्ग महिला ख़ालिकुन निशाँ कहती है, दरअसल अभी दो दिन पहले गाँव के गाँव के ही कुछ दबंगो की निगाह इस असहाय वृद्ध महिला की जमीन पर पड़ गयी फिर क्या आये दिन दबंग लोग महिला के घर उसे धमकाने और जमीन खाली कराने पहुँचने लगे, अपने जीवन के सुनहरे पलो को समेटे वृद्ध महिला ने ये घर खाली करने से साफ़ इंकार कर दिया तो गुस्साए दबंगो ने इसके घर के छप्पर में आग लगा दी, डरी सहमी इस महिला ने इलाके के थानेदार से जब शिकायत करनी चाही तो पुलिस ने भी सहायता करने में हाथ खड़े कर दिए,
फिर भी इस महिला ने जमीन खाली नहीं की और आखिरकार दबंगो ने अपनी पहुँच दिखाते हुए कल इस महिला की जमीन को विवादित बताते हुए इलाके की मौजूदगी में इस वृद्ध महिला के मकान के चारो तरफ जेसीबी मशीन लगाकर गहरे-गहरे गड्ढे खुदवा दिए

IMG-20141226-WA0100

 

 

IMG-20141226-WA0101

 

 

 

 

 

 

 

 

 

इस महिला के मुताबिक इलाके की पुलिस और प्रशासन दोनों इन दबंगो के आगे बेबस है और खुलकर इनका साथ दे रहा है, इस ज्यादती की शिकायत सुनने वाला कोई अधिकारी नहीं है और ये महिला बेबस है लाचार है

 

जेएनआई न्यूज़ की टीम ने इस बाबत तिलोई की उपजिलाधिकारी बंदिता श्रीवास्तव से बात की गयी तो उन्होंने जेसीबी से वृद्ध महिला के घर के अगल-बगल खुदाई करवाने से साफ़ इंकार कर दिया लेकिन बताया की उक्त जमीन चूँकि विवादित है लिहाजा उसकी पैमाइश के लिये राजस्व की टीम भेजी गयी थी

3f4f040

 

सवाल ये है की क्या गरीब की सुनने वाला इस जिले में अब कोई भी अधिकारी शेष नहीं है जबकि इस महिला ने अपने ऊपर हो ज्यादतियों का पूरा खाका बनाकर यहाँ के हुक़ुमरानो को महीनो पहले से दे रक्खा है और साथ ही इस मामले को लेकर लगातार अधिकारिओ से रहम की भीख तक मांग रही है लेकिन जैसे लगता है की इन अधिकारिओ की आँखों के आंसू सूख चुके है

1378362126_amethi

नेहरू के गढ़ में सही-गलत का फैसला और जांच की निष्पक्षता अब सवालिया घेरे में है जो काम अधिकारिओ को करना चाहिए वो गाँव के दबंग कर रहे है लेकिन ये बात अब वृद्ध महिला इलाके के सांसद राहुल गांधी तक पहुँचाने की कोशिश में है और अधिकारिओ की मूकदर्शिता के प्रति अपनी संवेदनाओ को पूरा खाका राहुल को सुनाने की तैयारी कर रही है

स्मृति और पार्रिकर भी अमेठी के गांव को लेंगे गोद

0

Posted on : 22-12-2014 | By : alok | In : अमेठी, सुर्खियां

14_12_2014-parrikarsmriti14

रिपोर्ट:मेराज़ खान

अमेठी:कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को उनके ही गढ़ में घेरने की रणनीति के तहत केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी और रक्षामंत्री मनोहर पार्रिकर अमेठी के एक-एक गांव को गोद लेकर प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना के तहत विकसित करेंगे।
हाल ही में राहुल गांधी ने अपने गोद लिए गांव सलोन तहसील के जगदीशपुर पहुंचकर सवाल उठाया था कि गांव के विकास के लिए पैसा कहां से आएगा। उसी सवाल की काट के लिए भाजपा ने नहले पर दहला मारने की योजना बनाई है। नए वर्ष में एक साथ अमेठी के दो गांव की तस्वीर व तकदीर बदलने की योजना पर अमल होने की उम्मीद है। इसके लिए स्मृति ईरानी व मनोहर पार्रिकर जनवरी के पहले पखवारे में यहां आ सकते हैं। अमेठी से लोकसभा चुनाव हारने के बाद स्मृति का यह दूसरा दौरा होगा। दौरे के दौरान दोनों नेता एक-एक गांव गोद लेने की सिर्फ घोषणा ही नहीं करेंगे, बल्कि दोनों अपने-अपने गोद लिए गांव में जाकर लोगों से मुलाकात करेंगे।
वैसे भाजपाइयों की योजना के अनुसार अमेठी के चार गांवों पर फिलहाल उनका फोकस होगा। पहला गांव गौरीगंज तहसील का बरौलिया है, जहां से स्मृति का खासा लगाव है। जगदीशपुर विधानसभा क्षेत्र के गांव हलियापुर व गौरीगंज के हरिहरपुर गांव पर भी चर्चा चल रही है। तिलोई विधानसभा क्षेत्र का सेमरौता गांव भी रक्षामंत्री मनोहर पार्रिकर की पसन्द बताई जा रही।
यह वही गांव है जहां गोवा के मुख्यमंत्री रहते हुए चुनाव प्रचार के दौरान उन्होंने सर्वाधिक समय गुजारा था। कुछ और गांवों पर भी विमर्श चल रहा है। इस दौड़ में बरौलिया व सेमरौता सबसे आगे चल रहे हैं। भाजपा के अमेठी जिलाध्यक्ष दुर्गेश त्रिपाठी ने बताया कि देश के साथ ही अमेठी के विकास को लेकर भी भाजपा फिक्रमंद है। जल्द ही अमेठी के लोगों को इस बात का भरोसा भी हो जाएगा।

केजरीवाल के खिलाफ अमेठी कोर्ट का समन

0

Posted on : 22-12-2014 | By : alok | In : अमेठी, सुर्खियां

350x350_IMAGE28981365

रिपोर्ट:मेराज़ खान

अमेठी: आम आदमी पार्टी संयोजक अरविंद केजरीवाल के खिलाफ अमेठी के दीवानी कोर्ट ने समन जारी किया है। उन्हें 13 अप्रैल 2015 को अदालत में हाजिर होने को कहा गया है।
अरविंद केजरीवाल पर दो मई को चुनावी सभा में विवादित भाषण देने का आरोप है। मामले में निर्वाचन आयोग ने उनपर मुकदमा दर्ज कराया था। जिसकी सुनवाई के बाद ही अमेठी के मुसाफिरखाना दीवानी न्यायालय के न्यायिक मजिस्ट्रेट दुर्गेश पांडे ने उन्हें समन जारी किया है।
लोकसभा चुनाव के दौरान अमेठी के औरंगाबाद गांव में दो मई 2014 को चुनावी सभा में अरविंद केजरीवाल ने विवादित भाषण दिया था। उन्होंने कहा था कि कांग्रेस को वोट देना देश के साथ गद्दारी होगी। जबकि भाजपा को वोट देना खुदा के साथ गद्दारी होगी। उनके भाषण को संज्ञान में लेते हुए चार मई 2014 को मजिस्ट्रेट प्रेमचन्द्र ने उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। जिसमें कहा गया था कि अरविंद केजरीवाल ने कांग्रेस व भाजपा को वोट न देने की अपील करते हुए चुनाव आयोग के निर्देशों का खुला उल्लंघन किया है। इस मामले में विवेचक ने नौ जुलाई को आरोप पत्र कोर्ट में दाखिल किया था। मामले की सुनवाई करते हुए न्यायिक मजिस्ट्रेट ने केजरीवाल को अदालत में तलब किया है।

भाजपा में शामिल हुए अमेठी के राजकुमार

0

Posted on : 22-12-2014 | By : alok | In : अमेठी, सुर्खियां

 2014_12image_17_47_381133563anant-llरिपोर्ट:मेराज़ खान

अमेठी : कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के गढ़ अमेठी में बीजेपी ने एक और सेंध लगा दी है। अमेठी राजघराने की जंग का फायदा उठाते हुए बीजेपी ने कांग्रेस के राज्यसभा सांसद संजय सिंह के बेटे अनंत विक्रम सिंह को पार्टी में शामिल कर लिया है। अनंत विक्रम ने कहा, मेरे बीजेपी ज्वाइन करने से अमेठी में पार्टी मजबूत होगी। मौका मिला तो चुनाव लड़ूंगा।

Anant-Vikram-Singh

 

समझा जाता है कि अमेठी राजघराने की जागीर कई करोड़ की है, जो देश के कई राज्यों में फैली हुई है। इस जागीर के लिए संजय सिंह, उनकी दो पत्नियां अमीता सिंह, गरिमा सिंह और बेटे अनंत विक्रम सिंह के बीच ज़बरदस्त जंग चल रही है। इसे लेकर पिछले दिनों इनके बीच राजमहल के सामने खूनी संघर्ष हुआ जिसमें एक शख्स की मौत हो गई थी और दर्जनों लोग ज़ख़्मी हुए थे। राजकुमार अनंत विक्रम राजा की पहली पत्नी गरिमा सिंह के बेटे हैं। पिछले 21 साल से गरिमा सिंह, संजय सिंह से विवाद की वजह से अलग रहीं। अनंत विक्रम सिंह मर्चेंट नेवी में नौकरी करते थे। अब वह अपनी नौकरी छोड़ कर अपनी मां को लेकर अमेठी राजमहल वापस आ गए हैं। राजा ने पहली पत्नी और राजकुमार को हाथोंहाथ लिया। राजकुमार दरबार लगाने लगे, जिससे जनता उनसे सीधे जुड़ने लगी। संजय सिंह की दूसरी पत्नी अमीता सिंह अमेठी विधानसभा सीट से चुनाव लड़ती हैं। समझा जाता है बीजेपी उन्हें उनकी सौतेली मां के खिलाफ मैदान में उतारना चाहती है। अमेठी में इस बार मोदी लहर में राहुल गांधी की जीत का मार्जिन काफी काम हो गया है। बीजेपी को राहुल के गढ़ में उन्हें घेरने के लिए कांग्रेसी राजघराने का एक राजकुमार मिल गया है।

काँग्रेसी राजघराने का भगवा राजकुमार

1

Posted on : 20-12-2014 | By : alok | In : अमेठी, सुर्खियां

रिपोर्ट-मेराज़ ख़ान (9648070088)

कहानी पुरानी है पर किरदार नए हैं। एक तरफ पिता होंगे तो दूसरी तरफ पुत्र। सियासत में ऐसा जमाने से होता आया है पर 1200 साल पुराने अमेठी राजघराने के लिहाज से सब कुछ नया है। (अमेठी राजमहल) पर अब तक कांग्रेस का तिरंगा लहराता रहा है लेकिन अब भाजपा का परचम लहराने को है। कांग्रेस सांसद और अमेठी के महाराज कहे जाने वाले संजय सिंह के बेटे अनंत विक्रम सिंह ने पारिवारिक संघर्ष के बाद पिता के खिलाफ लगभग सियासी बगावत भी कर दी है। वह 21 दिसम्बर को लखनऊ स्थित भाजपा के प्रदेश मुख्यालय में अपने समर्थकों समेत पार्टी में शामिल होने जा रहे हैं।

 

4524_garima-and-anant

फिलवक्त भले ही कोई बात खुलकर नहीं कही जा रही लेकिन अनंत विक्रम का यह कदम पिता से सियासी विरासत छीन लेने की बुनियाद के रूप में देखा जा रहा है। मसले पर संजय सिंह की चुप्पी खुद ब खुद कई सवाल खड़े कर रही है। सियासी चुनौती देने की यह बुनियाद पिछले सितम्बर में ही तब पड़ गई थी, जब अनंत विक्रम सिंह अपनी मां और संजय सिंह की पत्नी रानी गरिमा सिंह के साथ भूपति भवन जा डटे थे। पहले रानी गरिमा सिंह को वहां नहीं रह पा रही थीं। इसे लेकर कई दिनों तक धमाचौकड़ी और खूनी संघर्ष भी हुआ। इस मसले पर अनंत विक्रम को क्षेत्र से भरपूर नैतिक और भौतिक समर्थन मिला। सूबे में राज कर रही समाजवादी पार्टी ने इस मसले पर जब दबे पांव टांग अड़ाई तो भाजपा भी सक्रिय हुई। अनंत विक्रम का मन टटोला गया। उन्हें भी सियासत का यह दांव मुफीद लगा और आखिरकार तय हो गया कि वह भाजपा में शामिल होकर अमेठी में पार्टी का कामकाज देखेंगे, जहां मौजूदा केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने चुनाव लड़कर कार्यकर्ताओं को एकजुट कर रखा है। सूत्रों की मानें तो भाजपा को अनंत विक्रम के रूप में वह चेहरा मिल रहा है जो कांग्रेस के युवराज राहुल गांधी के खिलाफ मजबूती से खड़ा हो सकता है और उनका खूंटा उखाडऩे के लिए दमदार साबित हो सकता है। अनंत के स्थानीय और राजघराने से होने के कारण कांग्रेसी उन पर किसी तरह के सवाल भी नहीं खड़ा कर सकेंगे। भाजपा में जाने को लेकर अनंत विक्रम और उनके समर्थक खासे उत्साहित हैं। अनंत कहते भी हैं कि भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. लक्ष्मीकांत बाजपेयी से बात हुई है। भाजपा से हमारा पुराना नाता है क्योंकि उनके दादा रणंजय सिंह के आरएसएस से वैचारिक रिश्ते रहे हैं। अच्छा होता कि महाराज (पिता संजय सिंह) उनकी अंगुली पकड़कर सियासी दांव सिखाते लेकिन ऐसा नहीं हो पा रहा। पर इसका उन्हें कोई अफसोस नहीं है। अमिता सिंह के सवाल पर अनंत विक्रम ने कहा कि उनका ऐसा दर्जा नहीं है कि उनके बारे में वह कोई टिप्पणी करें। क्षेत्र की जनता काफी समय से चाह रही थी कि मैं राजनीति में सक्रिय होऊं, इसलिए मैं आ रहा हूं।

[bannergarden id="12"]